Oxygen level down होते हीं परमात्मा ने किया चमत्कार।।

जी नमस्कार,
सत साहेब जी

क्या नाम है जी आपका ?
दीक्षा कुशवाह

दीक्षा जी आप कहा से आए है ?
ग्राम देवरी जिला रायसेंड मध्य प्रदेश से।

संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा लेने से पहले आप क्या भक्ति साधना करते थे ?
संत रामपाल जी महाराज जी से नाम दीक्षा लेने से पहले हम सभी देवी देवताओं की भक्ति करते थे मेरी मम्मी काफी सारे व्रत भी करती थी लेकिन उसके बाद भी वो बहुत बीमार रहती थी हमेशा परेशान रहते थे हम लोग आर्थिक स्थिति भी ठीक नही थी। उसके बाद हमने जयगुरूदेव से नाम दीक्षा ली और तीन साल तक वहा भक्ति की लेकिन फिर भी हमे कोई लाभ नही मिला ।

दीक्षा जी जैसा की आपने बताया कि आपको इतनी सारी साधनाओं को करने के बाद भी लाभ नही मिला तो अपने संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा क्यों ली ?
एक दिन पापा टीवी (TV channel) चैनल चेंज कर रहे थे एकदम से साधना टीवी लग गया उस पर संत रामपाल जी महाराज जी का सत्संग चल रहा था पापा जी कुछ देर देखते रहे तो उनको थोड़ा अच्छा सा लगा उसके बाद दो तीन दिन उन्होंने रेगुलर देखा फिर मेरे मामा जी को बताया कि आप ये एक संत जी है उनका सत्संग देखो और ज्ञान सुनो और इनको गुरु बना लो क्योंकि हमे केवल तब तक यही पता था कि गुरु बनाना जरूरी होता है गुरु सच्चा है या नही ये हमे कोई जानकारी नहीं थी तो फिर हमारे मामा जी ने सत्संग देखा और उनको ज्ञान समझ आया और उन्होंने नाम दीक्षा ले ली उसके बाद उन्होंने हमारे मम्मी पापा को भी समझाया आप भी यही से नाम दीक्षा ले क्योंकि यही तत्वदर्शी संत है । जो सतगुरु होता है उसी से नाम दीक्षा लेकर भक्ति करने से मोक्ष प्राप्त हो सकता है फिर मम्मी पापा ने भी ज्ञान को समझा और संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा ले ली।

आपने सतगुरु की बात की तो हम आपसे ये जानना चाहेंगे कि रीयल सतगुरु (पूर्ण गुरु) की क्या पहचान है ?
सतगुरु की पहचान संत जन अपनी वाणी में बताते है कि जो सतग्रंथो के अनुसार हमे भक्ति विधि बताए वही सतगुरु होता है।
गरीबदास जी महाराज जी कहते है।
सतगुरु के लक्षण कहूं, मधूरे बैन विनोद।
चार वेद षट शास्त्र, कहै अठारा बोध।।

अर्थाथ जो चारो वेद, 18 पुराणों का ज्ञान बताता है उनके अनुसार हमे भक्ति विधि देता है वही सतगुरु होता है ।

दीक्षा जी जब आपने संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा ली तो क्या कोई लाभ भी मिला आपको ?
संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा लेने के बाद हमे बहुत सारे लाभ मिले सबसे बड़ा आध्यात्मिक लाभ हमे पता चला कि मनुष्य जन्म केवल मोक्ष प्राप्त करने के लिए मिला है और संत रामपाल जी महाराज जी से हमे सत भक्ति प्राप्त हुई अब हम निश्चिंत है कि मृत्यु के बाद पूर्ण मोक्ष प्राप्त होगा और हम सतलोक जायेंगे ।
गरीब दास जी महाराज जी अपनी वाणी में बताते है ।
“अजब नगर में ले गए, हम कू सतगुरु आन।
झिलके बिम्ब अघाद गति, सूते चादर तान।।

अर्थार्थ अब निश्चिंत है कि मृत्यु के बाद हम सीधे सतलोक ही जायेंगे इसमें कोई शंका नहीं।
उसके बाद एक बार मेरे पापा की तबियत खराब हो गई थी तो उनको डॉक्टर के पास लेकर गया तो डॉक्टर ने उनका चेक किया उनके पेट में बहुत तेज दर्द हो रहा था वहा पर उन्होंने पापा को हेपटायटर बताया और नागपुर जाने के लिए बोला फिर मेरे मामा जी और मम्मा उनको नागपुर लेकर गए तो वहा डॉक्टर ने और चेक किया उनको बाद कि आपका एक और वायरस है उसके लिए उसके लिए आपका भी टेस्ट होगा और आपके सारे फैमली मेंबर्स का भी टेस्ट कराना पड़ेगा और उसकी फीस उन्होंने (ten thousand) दस हजार पर टेस्ट बताया तो पापा जी पर इतने पैसे लेकर नही गए थे तो फिर मेरे मामा जी ने हमारे जिला सेवादार है अमर दास जी उनको फोन लगाया और सारी प्रॉब्लम बताई तो उन्होंने बताया आप वहा पर क्यों गए आप यहां संत रामपाल जी महाराज जी से प्रार्थना लगाओ हम पूर्ण परमात्मा की शरण में है हमे कुछ नही हो सकता आप वहा से रिटर्न आ जाओ हम पूर्ण परमात्मा की शरण में है आपको कोई टेस्ट नही कराना है तो पापा ने वहा कोई टेस्ट नही कराया डॉक्टर ने उनको एक हफ्ते की दवाइयां दी पापा वो दवाइयां लेकर घर आ गए और बंदी छोड़ सतगुरु रामपाल जी महाराज जी को अरदास लगाई परमात्मा संत रामपाल जी महाराज जी का आदेश आया कि परमात्मा दया करेंगे आप भक्ति करो तो उसके बाद पापा जी ने केवल एक हफ्ते की ही दवाइयां ली उसके बाद हमारा कोई टेस्ट नही हुआ न पापा का कोई टेस्ट हुआ पापा बिल्कुल ठीक है। उसके बाद मेरा छोटा भाई है उसको vometings (उल्टी) होती थी तो डॉक्टर्स को दिखाया लेकिन उसे कोई आराम नही मिला फिर हमने संत रामपाल जी महाराज जी को अरदास लगाई तो वहा से आदेश आया कि परमात्मा दया करेंगे मेरा भाई तब से ठीक है उसे कोई प्रॉब्लम नहीं है मेरा एसेडमैक रिजल्ट में जब 12th मे थी तो मेरे सारे फ्रेंड्स वेकैंसिस में कोचिंग के लिए गए हुए थे लिकिन हमारे पास ज्यादा पैसे नहीं थे में कोचिंग ज्वाइन नही कर पाई थोड़ी सी टेंशन थी 12th का रिजल्ट है पता नही कैसा आएगा कोई कोचिंग भी नही और टीचर्स भी कोई अच्छे नही थे हमारे स्कूल में लिकिन लेकिन जब 12th का रिजल्ट आया था (i was shocked my seeing my result I passed my 12th CBSE board Examination with 87% and chemistry I got 94 marks highest in my school ) तो मुझे थोड़ा अचंभा सा लगा बिना कोचिंग के और जो मेरे फ्रेंड्स लोग थे जो कोचिंग करके आए थे उसका रिजल्ट मेरे से थोड़ा डाउन था ये लाभ मिला मुझे परमात्मा की दया से उसके बाद हमारे घर में हम जो भी गाय लेकर आते थे तो एक दो महीने तक तो ठीक से दूध देती थी उसके बाद मर जाती थी दो, तीन बार ऐसा हुआ लेकिन संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा लेने के बाद अब हमारे घर में गाय अच्छे से रहती है अच्छा दूध भी देती है अब कोई प्रॉब्लम नही है।
मेरी मम्मी हमेशा बीमार रहती थी और दो बार उनको नागपुर भी लेकर गए थे पहले बीमारी के चक्कर में लेकिन जब से संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा ली अब उनको कोई दिक्कत नही होती है सब लोग स्वास्थ्य है हमारे घर में ।
अभी एक बार अभी लॉकडाउन में मेरे पापा जी की तबियत खराब हो गई थी तो हम उनको नार्शिंगपुर लेकर गए तो वहां डॉक्टर ने बताया पापा का oxygen level down 75 हो गया था तो डॉक्टर बोले आप इनको जल्दी से इनको एडमिट कराओ क्योंकि oxygen उनको लगानी पड़ेगी तो मामा जी घर लेकर आ गए कि कोई जरूरत नही है अपन परमात्मा को अरदास लगाएंगे तो फिर मामा जी ने बंदी छोड़ सतगुरु रामपाल जी महाराज जी को अरदास लगाई यहां फिर दूसरे दिन उसी टाइम हम लोग पर मामा जी ने अरदास लगाई और यहां से हम लोग डॉक्टर के पास गए चेक कराने के लिए तो ये परमात्मा से लाभ मिला क्योंकि ऑक्सीजन का लेवल एक दिन में ही नॉर्मल हो गया था।
उसके बाद पिछले लॉकडाउन में हमारी बाइक चोरी हो गई थी रात में चोरी हुई थी तो सुबह हमने बंदी छोड़ सतगुरु रामपाल जी महाराज जी को अरदास लगाई और पुलिस में भी रिपोर्ट कराई हमने तो लगभग दोपहर के 1 बजे हमारे पास कॉल आया आपकी बाइक मिल गई है हालाकि उसके पहिए चोरों ने निकाल लिए थे लेकिन बंदी छोड़ ने हमने अरदास लगाई थी तो दूसरे दिन परमात्मा का आदेश आया अधिक हानि कम में टलती है तो बंदी छोड़ ने अधिक हानि को कम में टाल दिया हो सकता था सुबह कहीं पापा जाते उनके साथ कोई बड़ी दुर्घटना घटती तो बंदी छोड़ बताते है सत्संग में कि
संत शरण में आए से, आई टले बला।
जै मस्तक में शूली हो, वो कांटे में टल जा।।

तो परमात्मा ने हमारा ये हानि छोटे में टाल दी ।

और क्या लाभ मिले आपको ?
हमारी आर्थिक स्थिति भी पहले बहुत खराब थी मेरे पापा सब्जी बेचते थे साइकिल से जाते थे पहले फिर जब हमने संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा ली तो हमारी आर्थिक स्थिति में बहुत सुधार आया और हमने एक बाइक भी ले ली है और पापा उससे सब्जी बेचने जाते है तो पहले जो पैसा आता था हमारे पास वो सारा बीमारियो में खर्च हो जाता था और अब वही पैसा बचने लगा है और हमारे घर की स्थिति बहुत ठीक है । मेरे पापा जी और मेरे दादा जी दोनो नशा करते थे पापा बीड़ी भी पीते थे लिकिन जब से संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा ली है उसके बाद से अब कोई भी नशा नही करते है और अब तो अगर कोई साइड में बैठकर भी नशा करता है तो हमे उसकी बदबू आती है बंदी छोड़ की ये दया हुई केवल सत भक्ति करने से ही पापा जी का नशा पूर्ण रूप से छूट गया क्योंकि पहले भी उन्होंने कई बार कोशिश की थी नशा छोड़ने की लेकिन वो नही छोड़ पाए थे उनके पेट में दर्द होने लगता था और गैस बनती थी और अब पापा कोई भी नशा नही करते है ।

दीक्षा जी आपने बताया है कि संत रामपाल जी महाराज ने आपको इतने सारे सुख दिए तो हम ये जानना चाहेंगे कि संत रामपाल जी महाराज अन्य संतों से किस प्रकार से अलग है क्या आपको नही लगता की आप किसी और संत से भी नाम दीक्षा लेते तब भी आपको इतने सारे लाभ मिल सकते थे ?
नहीं,
देखिए सर संत रामपाल जी महाराज हमे सभी सत ग्रंथों के अनुसार भक्ति विधि बताते है जैसे मेने आपको पहले बताया हम पहले जयगुरूदेव से जुडे़ हुए थे तो वहा पर केवल हमे यही बताया हम सतलोक जायेंगे लेकिन जब हमने संत रामपाल जी महाराज जी से नाम दीक्षा ली तब हमे पता चला कि सत भक्ति करके ही हम सतलोक जा सकेंगें और ये जो जयगुरू देव मंत्र देते है वो काल के मंत्र है और उन मंत्रो का जाप करने से हम काल लोक में ही रह जायेंगे तो संत रामपाल जी महाराज हमे सत ग्रंथों के अनुसार भक्ति विधि बता रहे है जबकि और संत जन केवल लोकवेद के अनुसार ही हमे कथा बताते है संत रामपाल जी महाराज जी ने वेदों से प्रमाणित किया कबीर साहेब पूर्ण परमात्मा है । जबकि जितने भी धर्म गुरु है वो सभी कहते है ब्रह्म,विष्णु,महेश, अजर है। लेकिन संत रामपाल जी महाराज जी ने वेदों से परमाणित करके बताया है कि ब्रह्मा, विष्णु, महेश की मृत्यु होती है उनका भी जन्म मरण होता है और उन्होंने हमारे सभी सत ग्रंथों से पवित्र चारों वेद , कुरान ,बाइबल और गुरु ग्रंथ साहिब से यह प्रमाणित करके यह बताया है कि कुल का मालिक एक है उनका नाम कबीर देव है तो वहीं तीनों लोकों में प्रवेश करके सबका धारण पोषण करता है तो इससे यह सिद्ध होता है संत रामपाल जी महाराज जी ही एक मात्र ऐसा सतगुरु है जो हमे सत भक्ति देते है और वही विश्व में एक मात्र तत्व दर्शी संत है।

दीक्षा जी जैसा की आज के समाज में देखते है कि आज की जो युवा पीढ़ी है वो अभी से बहुत सारे नशों में लिप्त है और वो बहुत सारी बुराइयों में फस चुके है तो आज की युवा पीढ़ी को आप क्या बोलना चाहोगे ? क्या संदेश देना चाहेंगे ?
आज की युवा पीढ़ी केवल शिक्षा ग्रहण तो करती है लेकिन उसके साथ साथ कई बुराइयों में फस जाते है जैसे नशा करना अपने स्कूल को छोड़कर कई बुराइयों में फस जाते है लिकन इसी कारण से अपने गोल को अचीफ नही कर पाते है। में उनसे कहना चाहूंगी की यदि संत रामपाल जी महाराज जी से नाम दीक्षा लेकर सत भक्ति की जाय तो आप इन सब बुराइयों से दूर भी रहेंगे और आप जो गोल अचीफ़ करना चाहते है आप वो भी परमात्मा की दया से गोल अचीफ़ कर पाएंगे जैसे मेने अपने बारे में बताया कि मेरे फ्रेंड्स कोचिंग के लिए गए थे लेकिन मेने बिना किसी कोचिंग के अच्छे मार्क्स स्कोर किए है तो आप सभी से मेरा विनम्र निवेदन है कि आप भी संत रामपाल जी महाराज से नाम दीक्षा ले और अपने मनुष्य जीवन का कल्याण कराए !

दीक्षा जी संत रामपाल जी महाराज जी के बारे में ये कहा जाता है वो देवी देवताओं की भक्ति छुड़वाते है आप क्या कहना चाहेंगे ?
देखिए ये तो झूठ है संत रामपाल जी महाराज जी उनकी भक्ति छुड़वाते नही हैं हमारे सत ग्रंथों में जो प्रमाण है उनके अनुसार ही हमे भक्ति बताते है जैसे गीता जी अध्याय 16 श्लोक 23 , 24 में कहा है कि जो शास्त्र विधि को त्यागकर मन माना आचरण करते है उनको न कोई सुख होता है और न ही गति होती है और न ही उनको मोक्ष प्राप्त होता है । और हम व्रत करते है जबकि गीता अध्याय 6 श्लोक 16 में स्पष्ट मना किया गया है हम मंत्र जप करते है हरे राम , हरे कृष्ण जबकि इनका हमारे पवित्र सत ग्रंथों में कहीं भी प्रणाम नही है गीता जी के अध्याय 8 श्लोक 13 में केवल (ओम) मंत्र जाप के लिए कहा हुआ है तो इन सब मंत्रो के जाप करने से हमे कोई लाभ नही मिल सकता। संत रामपाल जी महाराज जी हमें सत ग्रंथों के अनुसार भक्ति बता रहे है उनकी भक्ति छुड़वा नही रहे है ।
दीक्षा जी ऐसा क्या होता है कि जो संत रामपाल जी महाराज जी से नाम दीक्षा लेता है चाहे वो छोटा हो चाहे वो बड़ा हो उनको वेद और गीता के अध्याय कंठस्थ होते है ऐसा संत रामपाल जी महाराज ऐसा संत रामपाल जी महाराज आप लोगों को क्या ज्ञान देते है क्या कारण है ?
आज तक जितने भी धर्म गुरु है मंडलेश्वर है वो केवल गीता और वेदों का नाम लेते है लेकिन उन्हें उनका कोई ज्ञान नहीं जबकि संत रामपाल जी महाराज जी हमें में सभी सत ग्रंथ खोल खोलकर दिखाते है टीवी के माध्यम से प्रोजेक्टर पर दिखाते है अंगुली रख कर की परमात्मा कौन है उन्होंने सभी सत ग्रंथों से प्रमाणित करके बताया है कि कबीर परमेश्वर ही पूर्ण परमात्मा है व सतलोक में रहता है ।
हम कौन है ?

कहां से आए है ?

और हमारा जन्म और मृत्यु क्यों होता है ?

हमें भक्ति क्यों करनी चाहिए या कौन सी भक्ति करनी चाहिए ?

ये सभी ज्ञान हमे संत रामपाल जी महाराज जी ने सत ग्रंथों से प्रमाणित करके बताया है उनका ज्ञान अद्वितीय है अविरल है ।

दीक्षा जी आज की जो युवा पीढ़ी है वो कहीं न कहीं अपने पथ से भटक चुकी है वो बहुत सारी बुराइयों में लिप्त हो चुकी है तो आज की युवा पीढ़ी को आप क्या संदेश देना चाहेंगे ?
देखिए युवा पीढ़ी बस में यह कहना चाहूंगी आपको जितनी भी। प्रॉब्लम्स आती है यदि आप परेशान है या आपकी फैमली में कोई भी परेशान है और आप कई सारी कोशिशें कर लेते है उसके बाद भी आपको कोई सोल्यूशन नही मिल पता है तो मेरा आपसे विनम्र निवेदन है कि एक बार आप संत रामपाल जी महाराज जी जो हमे ज्ञान देते है उसका मिलान आप अपने सत ग्रंथों से करें एक बात और में कहना चाहूंगी जो भक्ति हमें बता रहे है हमारे धर्म गुरु तो क्या आपने कभी उनको मैच करके देखा है वो क्या हमें बता रहे है क्या वह सही है उसके बाद यदि आपको लगता है वो गलत है तो आप एक बार संत रामपाल जी महाराज जी का सत्संग सुने और फिर जो वो बताते है आप अपने सत ग्रंथों से मिलान करके देखें तो आप पाएंगे की जो भक्ति हमें संत रामपाल जी महाराज जी बताते है वो सत ग्रंथों से प्रमाणित है और उसको करने से आपकी जितनी भी प्रॉब्लम है वो सभी सॉल्व होगी आप अपने गोल को भी आचीफ कर पाएंगे तो आप संत रामपाल जी महाराज जी का सत्संग सुने उस ज्ञान को समझे और उनसे नाम दीक्षा लेकर आप अपने मनुष्य जीवन का कल्याण कराए ।

दीक्षा जी जो व्यक्ति संत रामपाल जी महाराज जी से नाम दीक्षा लेना चाहेगा वो संत रामपाल जी महाराज जी से नाम दीक्षा कैसे ले सकता है ?
देखिए आज की युवा पीढ़ी स्मार्ट है आप देखेंगे आज सभी के पास आपको स्मार्ट फोन मिलेंगे तो हम उसमे (YouTube) पर संत रामपाल जी महाराज सर्च करके आप उनके सत्संग सुन सकते है । फेसबुक पर आप (Spritual Leader Saint Rampal Ji Maharaj ) करके एक पेज बना हुआ है उस पर भी संत रामपाल जी महाराज के सत्संग चलते है आप वहा पर सत्संग में नीचे पीली पट्टी चलती है साथ ही टीवी पर भी सत्संग चलता है संत रामपाल जी महाराज जी का उधर नीचे पीली पट्टी पर सतलोक आश्रम के फोन नंबर चलते रहते हैं उन नंबर्स पर कॉल करके आप अपने ही डिस्ट्रिक के नजदीक नाम दान केंद्र का पता करके वहा से नाम दीक्षा ले सकते हैं और अपने जीवन का कल्याण करवा सकते है ।
जी धन्यवाद,
सत साहेब जी ।🙏🏻

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *